हिन्दुस्तान24.लाइव

फरीदाबाद, 20 मई (राहुल चौधरी) : सेक्टर-आठ थाना पुलिस ने रेवाड़ी में छापेमारी कर घर में घुसकर युवती की हत्या करने के मामले में फरार चल रहे हत्यारोपी युवक को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। दुष्कर्म के प्रयास में विफल होने पर आरोपी ने पहले क्रिकेट का बैट और फिर चाकू से 13 वार कर युवती की हत्या कर दी थी। पुलिस ने सोमवार को आरोपी को अदालत में पेश कर तीन दिन के पुलिस रिमांड पर ले लिया है।

सोमवार को पुलिस आयुक्त संजय कुमार ने सेक्टर-21सी स्थित अपने कार्यालय में प्रेसवार्ता के दौरान यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आरोपी की पहचान मूल रूप से भिवानी के बीरण गांव हाल सेक्टर-आठ थाना इलाका निवासी करीब 20 वर्षीय आकाश के रूप में हुई है। आरोपी मृतक युवती के पड़ोस में रहता था। कुछ माह पहले आरोपी का परिवार मृतक के घर वाली गली से दूसरी गली में रहने लगा था। आरोपी युवती के प्रति बदनीयती रखता था। आरोपी ने पार्क में भी युवती से दोस्ती करने का प्रयास किया था। युवती ने कई बार उसकी दोस्ती का ऑफर ठुकरा दिया था। फिर भी आरोपी युवती के पीछे पड़ा हुआ था।

पिस्तौल दिखाकर युवती की आंखों पर बांध दी थी पट्टी : सेक्टर-आठ थाना एसएचओ योगवेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपी ने युवती के घर की रेकी थी। 17 मई को जब युवती के माता-पिता घर से चले गए तो वह उसके घर पहुंच गया था। पानी का सप्लायर जब आया तो आरोपी इसी दौरान घर में प्रवेश कर गया था। उसके बाद पिस्तौल दिखाकर वह युवती के कमरे में घुस गया था। आरोपी ने पहचाने जाने से बचने के लिए अपना चेहरा ढंका हुआ था। पिस्तौल के दम पर उसने युवती को हैवानियत का शिकार बनाने से पहले युवती की आंखों पर पट्टी बांध दी थी। युवती की आंखों पर पट्टी बांधने के बाद आरोपी ने अपने चेहरे का नकाब खोल दिया। जब आरोपी ने दुष्कर्म का प्रयास किया तो आंखों पर पट्टी बंधे होने के बावजूद युवती ने युवक को पहचान लिया। युवती ने उसकी बदनीयती का विरोध किया। दुष्कर्म में विफल होने पर आरोपी पुलिस द्वारा पकड़े जाने से डर गया। उसके बाद आरोपी ने कमरे में पड़े क्रिकेट बैट से युवती के सिर में चोट मार दी। फिर उसने कई बार युवती के सिर को दीवार में देकर मारा। जब भी युवती ने दम नहीं तोड़ा तो आरोपी रसोईघर में गया और वहां से चाकू ले आया। उसने युवती की गर्दन पर वार कर दिया। आरोपी ने इस दौरान ताबड़तोड़ 13 वार किए। जिससे युवती ने दम तोड़ दिया। इसके बाद आकाश करीब तीन घंटे तक युवती के कमरे में रहा था। उसके बाद आरोपी ने अपने घर जाकर घटना की जानकारी अपनी मां को दी थी।

कैसे पकड़ा गया : पुलिस ने युवती की सहेलियों, ट्यूशन सेंटर, पड़ोसियों और युवती के घर की ओर जाने वाले ऑटो चालकों से पूछताछ की थी। पुलिस को सीसीटीवी कैमरे की फुटेज से आरोपी का हुलिया पता लग गया था। जिससे पुलिस उसकी पहचान करने में कामयाब हो गई थी। आरोपी मेरठ ओपन विश्वविद्यालय से बीए द्वितीय वर्ष का छात्र है। वह अपने पिता के साथ शराब के अहाते में काम करता था।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें