हिन्दुस्तान24.लाइव

फरीदाबाद, 10 सितम्बर (राहुल चौधरी) : बाइपास रोड नूरी मस्जिद व मदरसा से शोहदाए करबला की याद में जूलूसे मोहर्रम निकाला गया। इस अवसर पर समाजसेवी विनोद भाटी एवं रविंद्र भाटी ने कहा कि महापुरुषों की शहादत खास मकसद के लिए होती है और उससे अनंत काल तक दिशानिर्देशन होता रहता है। हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद में मुस्लिम समाज ताजिया निकालते हैं। यह दुख का अवसर होता है लेकिन हमें याद रखना होगा कि उन्होंने शहादत क्यों दी। हमेशा ध्यान रखें कि शहादत के खास कारण होते हैं जो समाज की रक्षा और भविष्य में नीति निर्देश देने के होते हैं। भाटी ने समस्त मुस्लिम समाज से अपील की कि वह इन शहादतों को याद कर देश और समाज को आगे बढ़ाने के लिए एकजुटता दिखाएं। उन्होंने सभी से अपील की कि देश में किसी भी प्रकार की जातीय अथवा धार्मिक विद्वेष को बढ़ाने वाली कोशिशों को नकारें और किसी के बहकावे में बिल्कुल न आएं। उन्होंने सभी को मिलजुलकर रहने और देश को आगे बढ़ाने के लिए कार्य करने की बात कही। तत्पश्चात ताजियों का जलूस शहर के मुख्य-मुख्य बाजार से होता हुआ पीर पर संपन्न हुआ। जलूस के दौरान युवाओं ने पट्टाबाजी कर लाठी प्रदर्शन किया। इस अवसर पर ताजिए के संयोजक जावेद अली खान, मौलाना नईम सहित अनेक हिंदू मुस्लिम भाई मौजूद रहे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें